Take a fresh look at your lifestyle.

साइबर सेल ने फिर की अपील- ऑनलाइन लोन के चक्कर में न पड़ें, ये ऐप आपको बर्बाद कर देंगे

0 86

[ad_1]

जबलपुर. इंदौर में पिछले दिनों एक परिवार के हत्या और आत्महत्या केस के बाद ऑनलाइन लोन देने वाली कंपनियों और ऐप पर बैन की बात कही जा रही है, लेकिन ऐसे इंस्टेंट लोन एप यानि एप्लीकेशन्स के खिलाफ ब्लैक मेलिंग सहित अन्य आपराधिक षड्यंत्र रचने की शिकायतें लगातार सामने आ रही हैं. ये आंकड़ा इतना अधिक है कि खुद पुलिस भी हैरान है. वो लोगों से अपील कर रही है कि ऐसी कंपनियों के झांसे में न आएं. ये खतरनाक हो सकता है.

जबलपुर. साइबर सेल की टीम के पास ऐसी सैकड़ों शिकायतें इंस्टेंट लोन एप्स की पहुंची हैं जो ग्राहकों को 2 मिनट में 10,000 से लेकर 50,000 का लोन तो दे देते हैं लेकिन उसके बदले में उनके लिए बड़ी मुसीबत भी खड़ी हो जाती है.

ऐसें फंसता है ग्राहक
प्राप्त शिकायतों के मुताबिक ऐसे लोन एप्लीकेशन डेवलपर अमूमन किसी भी ग्राहक के फोन को एक्सेस कर लेता है जिससे उसकी फोटो उसके कांटेक्ट और सभी गोपनीय जानकारियां लोन सॉफ्टवेयर डेवलपर अपने पास सहेज लेता है. ऐसे में कुछ शिकायतों में तो प्राइवेट फोटोज को अपलोड करने की धमकी देते हैं. इसी के साथ लोन ना चुकाने पर या ब्याज ना देने पर बदनाम करने की धमकी देते हैं. कहने को प्रदेश के गृह मंत्री नरोत्तम मिश्रा के निर्देश पर बीते दिनों देश भर में सैकड़ों ऐसे लोन एप्लीकेशंस को बैन किया गया है लेकिन कारिस्तानी करने वाले ऐसे अपराधी एक लोन एप्लीकेशन बंद करने के बाद दूसरी डेवलप कर लेते हैं और अपने मंसूबों को अंजाम दे रहे हैं.

ये भी पढ़ें- रेल यात्रियों के लिए खुशखबरी : अब इन ट्रेनों में भी मिलेगा बेडरोल, नोट कीजिए गाड़ी नंबर

ऑनलआइन लोन से सावधान रहें
फिलहाल स्टेट साइबर सेल की टीम ने एहतियातन आम लोगों से जागरूक  और सावधान रहने की अपील की है. उनका कहना है इंस्टेंट लोन के चक्कर में न पड़ें. ये बड़ा मकड़जाल है. सॉफ्टवेयर डेवलपर लोगों को ठग रहे हैं. वो आए दिन उनकी मुसीबत को बढ़ा रहे हैं. इस वजह से इंस्टेंट लोन लेने के सरल और शॉर्टकट तरीके से सभी को बचना चाहिए. प्राप्त  शिकायतों में सबसे ज्यादा युवाओं की हैं जो अमूमन इंस्टेंट लोन के चक्कर में फंसते जा रहे हैं.

इंदौर में हत्या-आत्महत्या
इंदौर में हाल ही में इंस्टेंट लोन के चक्कर में फंसे एक टेलिकॉम कर्मचारी ने अपने तीन और दो साल के बच्चों और पत्नी की हत्या के बाद आत्महत्या कर ली थी. उसके बाद प्रदेश के गृहमंत्री नरोत्तम मिश्रा ने ऑनलाइन लोन ऐप पर बैन लगाने का आदेश दिया था. बैन लगा भी लेकिन ठग नये नाम से ऐप बनाकर अपना जाल बिछाए हुए हैं.

Tags: Cyber Crime News, Jabalpur news, Loan default, Madhya pradesh news

[ad_2]

Source link

Leave A Reply

Your email address will not be published.