Take a fresh look at your lifestyle.

MP: सांसद आदर्श ग्राम की खुली पोल, मरीज को खाट पर ले जाना पड़ा 4 किमी; फोटो वायरल

0 104

[ad_1]

डिंडौरी. डिंडौरी जिले में सांसद आदर्श ग्राम बघाड़ से मरीज को खाट पर ले जाने की तस्वीर सोशल मीडिया में वायरल हो रही हैं. वायरल तस्वीर 3 सितंबर की बताई जा रही है. यहां केहर सिंह नामक ग्रामीण की तबियत अचानक बिगड़ जाने से परिजनों को उसे खाट पर लेटाकर करीब 4 किलोमीटर जंगली ऊबड़-खाबड़ रास्तों में चलना पड़ा, तब कहीं जाकर उन्हें अस्पताल जाने के लिए वाहन नसीब हुआ. गौरतलब है कि बघाड़ गांव को स्थानीय सांसद व केंद्रीय राज्यमंत्री फग्गन सिंह कुलस्ते ने प्रधानमंत्री सांसद आदर्श ग्राम योजना के तहत गोद लिया है. बीते 7 मार्च को मंत्री पहली बार गोद लिए हुए बघाड़ गांव पहुंचे थे.

यहां सड़क खराब होने की वजह से कुलस्ते को करीब 1 किलोमीटर पैदल भी चलना पड़ा था. तब ग्रामीणों के आग्रह पर कुलस्ते ने गांव तक सड़क बनाने के लिए 44 लाख रुपये का भूमिपूजन किया था. रामगूढा से बघाड़ ग्राम तक तीन महीने पहले ही ग्रामीण यांत्रिकी सेवा विभाग ने लाखों रुपये की लागत से सड़क का निर्माण कराया गया था, जो पिछले दिनों हुई बारिश में जगह-जगह से क्षतिग्रस्त हो गया. इसके कारण गांव तक वाहनों का पहुंचना असंभव हो गया है. स्वास्थ्य विभाग के अधिकारी विक्रम सिंह का कहना है कि बघाड़ ग्राम घने जंगलों व पहाड़ के नीचे दुर्गम स्थान है. यहां सड़क खराब होने की वजह से बारिश के मौसम में एम्बुलेंस का पहुंचना असंभव है.

जिले में हर जगह एक सी हालत
गौरतलब है कि डिंडोरी में इस तरह की तस्वीर दिखना आम बात है. पिछले महीने की 12 अगस्त को भी ऐसा ही एक वीडियो सामने आया था. यह वीडियो बीमार पत्नी को कंधे पर लादकर अस्पताल ले जाते लाचार पति का था. घटना शहपुरा विधानसभा के अमरपुर विकासखंड इलाके की थी. वनग्राम भुरकुंडा में रहने वाली सोमा बाई पेट दर्द से तड़प रही थी. उसकी गंभीर हालत देखकर पति राजकुमार ने उसे अस्पताल ले जाने का फैसला किया.

केंद्रीय राज्यमंत्री फग्गन सिंह कुलस्ते का है संसदीय क्षेत्र
दरअसल, भुरकुंडा से अस्पताल जाना आसान नहीं है. क्योंकि, यह जंगल का इलाका है. यहां ऊबड़-खाबड़ रास्ते हैं. सड़क न होने से एंबुलेंस या किसी भी वाहन का यहां पहुंचना मुश्किल है. यह इलाका केंद्रीय राज्यमंत्री फग्गन सिंह कुलस्ते का संसदीय क्षेत्र है. इस क्षेत्र से विधायक कांग्रेस के भूपेंद्र मरावी हैं. यहां आजादी के सालों बाद भी सड़क नहीं है. इस बात की जानकारी इन दोनों नेताओं के साथ-साथ स्थानीय प्रशासन को भी है, लेकिन जिम्मेदार अधिकारी व जनप्रतिनिधि मूकदर्शक बने हुए हैं.

Tags: Mp news

[ad_2]

Source link

Leave A Reply

Your email address will not be published.