Take a fresh look at your lifestyle.

MP: सिद्धा पहाड़ पर नहीं होगा उत्खनन, सीएम शिवराज ने किया ट्वीट- पवित्रता बनाए रखेंगे

0 95

[ad_1]

सतना. मध्य प्रदेश की आस्था और पर्यावरण से जुड़ी बड़ी खबर है. प्रदेश सरकार ने सांस्कृतिक धरोहर सिद्धा पहाड़ पर उत्खनन करने से मना कर दिया है. प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने शुक्रवार सुबह इसकी जानकारी दी. उन्होंने ट्वीट किया- ‘सिद्धा पहाड़, सतना जैसे अमूल्य सांस्कृतिक धरोहर स्थान जो हमारे आस्था और श्रद्धा के केंद्र हैं, यहां की पवित्रता को अक्षुण्य रखा जाएगा. यहां उत्खनन किसी कीमत पर नहीं होगा. सतना जिला प्रशासन को निर्देश दे दिए गए हैं.’

गौरतलब है कि सरकार पहले इस पहाड़ पर खनन की अनुमति देने जा रही दी थी, लेकिन इसका भारी विरोध हुआ. इसे लेकर भगवान राम के नाम पर राजनीति चरम पर पुहंच गई. दरअसल, भगवान श्री राम की तपोभूमि चित्रकूट क्षेत्र में खनिज के अकूत भंडार हैं. ये खनिज राम वन पथ गवन क्षेत्र में हैं. ऐसे में यहा खनिज लीज मंजूर करने को लेकर सरकार पर सवाल उठने लगे थे. कांग्रेस लगातार बीजेपी पर हमलावर थी. कांग्रेस सरकार पर भ्रम फैलाकर अपना बचाव करने का आरोप लगा रही थी. दूसरी ओर, साधु-संतों ने भी सरकार के इस कदम का जबरदस्त विरोध किया.

आस्था का महत्वपूर्ण केंद्र
बता दें. यह स्थान भगवान श्री राम के प्रति आस्था रखने वालों के लिए महत्वपूर्ण है. कहा जाता है कि भगवान राम ने सतना जिले के चित्रकूट में वनवास के 12 साल गुजारे थे. यहीं से तपस्वी राम पुरुषोत्तम राम बने. पूरे चित्रकूट क्षेत्र के जगलों में  राम के पद चिन्ह आज भी हैं. इन्हें देखने भक्त आस्था के साथ यहां आते हैं. चित्रकूट के साथ साथ सरभंगा, सिद्धा, सुतीक्षण आश्रम और सुम्भार पर्वत भी राम पथ में आते हैं. यहां भगवान राम ने वनवास का समय काटा था.

हो रहा खनिज संपदा का दोहन
लेकिन, इन दिनों यहां की खनिज संपदा का जमकर दोहन हो रहा है. ।आधा सैकड़ा से ज्यादा वैध और अवैध खदानें यहां संचालित हैं. यहां से बाक्साइड, लेटराइट, राम रज गेरू का खनन हो रहा है. इतना ही नहीं, सरभंगा आश्रम से लगे शुम्भार पहाड़ को समतल कर दिया गया है. सरकार ने तो सिद्धा पहाड़ में भी खनिज लीज स्वीकृत कर ली थी, लेकिन कांग्रेस ने उसे घेर लिया. कांग्रेस ने बीजेपी पर हिंदुओं की आस्था के साथ खिलवाड़ का आरोप लगा दिया था. कहा जाता है कि सिद्धा पहाड़ को लेकर रामायण और रामचरित मानस में उल्लेख है. यहां भगवान राम ने राक्षसों का विनाश करने की शपथ ली थी.

Tags: Mp news, Satna news

[ad_2]

Source link

Leave A Reply

Your email address will not be published.