Take a fresh look at your lifestyle.

Success Story: गार्ड की करते थे नौकरी, ढाबे पर की पढ़ाई, अब बने इंजीनियर, पढ़ें मुकेश दाधीच को कैसे मिली सफलता

0 94

[ad_1]

हाइलाइट्स

राजस्थान के जोधपुर के मुकेश दाधीच की सफलता की कहानी
पिता के ढाबे पर बैठकर पढ़ते थे किताबें
गार्ड की नौकरी के साथ पूरी की अपनी पढ़ाई

जोधपुर. कहते हैं कि सफल होने के लिए लगन मेहनत जरूरी है. जब कोई व्यक्ति ठान ले तो उसकी सफलता के आड़े उसकी परिस्थितियां और हालात नहीं आ सकते. ऐसी ही कहानी है जोधपुर के मदेरणा कॉलोनी निवासी मुकेश दाधीच की. मुकेश के पिता जय प्रकाश दाधीच एक चाय का ढाबा चलाते हैं. ढाबे के सहारे उन्होंने अपने बच्चों को पाला. जब मुकेश बड़े हुए तो उन्होंने अपने पिता के इस व्यवसाय को संभाल लिया. चाय के ढाबे पर ही बैठकर मुकेश खाली समय में किताबें पढ़ा सकते थे.

मुकेश ने जीवन में इस बात को ठान लिया था कि किसी भी स्थिति में सफल जीवन जीना है. इसके लिए वह कड़ी मेहनत करने लगा. दिनभर चाय का ढाबा चलाकर रात को नागोरी गेट क्षेत्र में स्थित सेंट्रल बैंक के एटीएम पर गार्ड की नौकरी मुकेश करने लगे. रात को नौकरी के दौरान एटीएम के गार्ड रूम में बैठकर करीब 5 से 6 घंटे नियमित पढ़ाई करते थे. उनके जीवन का एक ही लक्ष्य था कि एक अच्छी सरकारी नौकरी मिल जाए.

कड़ी मेहनत से मुकेश को मिली सफलता

मुकेश की मेहनत को देखकर आखिर आज सफलता उसके कदम चूमा रही है. मुकेश का सिलेक्शन पीडब्ल्यूडी में जूनियर इंजीनियर के पद पर हुआ. इसके बाद मुकेश के घर में खुशी का माहौल है. सलेक्शन के बाद भी उसने अपने पिता का उनके व्यवसाय में हाथ बटाना नहीं छोड़ा.

ये भी पढ़ें:  Google की एक छोटी सी गलती से करोड़पति बन गया यह शख्स, खाते में आ गए ढाई लाख डॉलर, जानें फिर क्या हुआ..

मुकेश ने बताया किस सफलता के लिए कोई शॉर्टकट नहीं है, बस नियमित अभ्यास और निरंतर पढ़ाई कड़ी मेहनत ही सफलता पाने का तरीका है. जहां मुकेश की सफलता के बाद उसके पिता खुश हैं. वहीं उसके चाय के ढाबे पर रोजाना चाय पीने वाले लोगों ने भी तालियां बजाकर उनका हौसला बढ़ाया.

Tags: Jodhpur News, Rajasthan news, Success Story

[ad_2]

Source link

Leave A Reply

Your email address will not be published.