Take a fresh look at your lifestyle.

VIDEO: कोटा-नागदा ट्रैक पर Vande Bharat Express का ट्रायल; 180 किमी की रफ्तार से दौड़ी ट्रेन; देखते रह गए लोग

0 98

[ad_1]

कोटा. राजस्थान में शुक्रवार को सेमी हाईस्पीड ट्रेन वंदे भारत का ट्रायल किया गया. पश्चिम मध्य रेलवे के कोटा मंडल में कोटा से लेकर नागदा ट्रैक पर इस ट्रेन को 120 किमी प्रति घंटे से लेकर 180 किमी प्रति घंटे की रफ्तार से दौड़ाया गया. देश की पहली सेमी हाईस्पीड ट्रेन वंदे भारत का तीसरा रैक पटरियों पर उतारा गया था. इस ट्रेन की रफ्तार देखने वाले इसे ताकते ही रह गए और ट्रेन स्टेशन से हवा हो गई. भवानीमंडी से कोटा और कोटा से घाट का बराना के बीच कई जगहों पर खाली ट्रेन की रफ्तार चेक की गई. बता दें कि इससे पहले बीते 24 अगस्त को कोटा स्टेशन पर स्पीड ट्रायल के लिए वंदे भारत ट्रेन का रैक पंहुचा था. इस वंदे भारत ट्रेन की प्रारंभिक जांच के दौरान वॉशिंग पिट में धुलाई तथा साफ-सफाई की गई थी. इसके अलावा ट्रेन के सभी प्रकार के इंस्ट्रूमेंट एवं पैनल की भी जांच की गई. वहीं शुक्रवार को वंदे भारत ट्रेन का ट्रायल किया गया.

परीक्षण के दौरान मौजूद रहे अधिकारी

इस दौरान आरडीएसओ, लखनऊ टीम की उपस्थिति रही. पश्चिम मध्य रेलवे के नागदा-कोटा-सवाई माधोपुर (अप और डाउन लाइन पर) रेल खंड पर वंदे भारत ट्रेन सेट का विस्तृत ऑसिलेशन गति परीक्षण किया जा रहा है. आरडीएसओ (अनुसंधान, अभिकल्प और मानक संगठन) की टीम एक नई डिजाइन वाली वंदे भारत ट्रेन सेट के साथ 180 किमी प्रति घंटे की अधिकतम परीक्षण गति के साथ ट्रेन सेट के 16 डिब्बों के प्रोटोटाइप रेक के विस्तृत ऑसिलेशन परीक्षण का आयोजन कर रही है. शुक्रवार को कोटा मंडल में विभिन्न चरणों में परीक्षण किए गए. पहले चरण का परीक्षण कोटा और घाटका बराना के बीच किया गया. इसके बाद दूसरा परीक्षण घाट का बराना और कोटा के बीच किया गया.

पहले भी हो चुके हैं ट्रायल

तीसरा ट्रायल कुर्लासी और रामगंज मंडी के बीच डाउन लाइन पर नॉन-रिकॉर्डिंग, चौथा और पांचवां परीक्षण कुर्लासी और रामगंज मंडी के बीच डाउन लाइन पर एवं छठा परीक्षण रामगंजमंडी और लबान डाउन लाइन पर किया गया. इसी दौरान कई स्थानों पर गति के कांटे ने 180 किमी प्रति घंटे की रफ्तार को छू लिया. वंदे भारत ट्रेन पूरी तरह से भारत में निर्मित है. यह सेमी-हाई-स्पीड ट्रेन है. वंदे भारत ट्रेन सेल्फ प्रोपेल्ड इंजन युक्त ट्रेन है. अर्थात इसमें अलग से इंजन लगा हुआ नहीं होता. इसमें ऑटोमेटिक दरवाजे और वातानुकूलित चेयर कारों के कोच हैं और रिवॉल्विंग चेयर दी गई हैं. जो 180 डिग्री तक घूम सकती है.

Tags: Kota news, Rajasthan news



[ad_2]

Source link

Leave A Reply

Your email address will not be published.